सोमवार, जनवरी 11, 2010

धर्म से निरपेक्ष कौन ?

पवन कुमार अरविंद
धर्म की अवधारणा के विविध पक्षों में एक अत्यन्त महत्वपूर्ण और सदा चर्चा में रहने वाला शब्द ''सेक्युलर'' है। इस शब्द के हिन्दी अनुवाद के रुप में देश के कुछ बुद्धिजीवी एवं राष्ट्रीय नेताओं ने ''धर्मनिरपेक्ष'' शब्द कहना शुरु कर दिया है, जो एकदम अनुचित है।

भारतीय संस्कृति की विशिष्टता ''सर्वधर्म समभाव'' की है। अत: धर्म विरोधी कोई भी विचार भारत में स्वीकार्य नहीं है। सेकुलर शब्द का भारत और भारतीयता के सम्बन्ध में सही स्थान क्या हो सकता है, यह गम्भीर विचार का विषय है। इसी सन्दर्भ में इस लेख में यह प्रयास किया गया है कि क्या धर्म से निरपेक्ष कोई हो सकता है ?

यदि इस देश के सभ्य समाज व विद्वत जन से यह प्रश्न किया जाय कि धर्म से निरपेक्ष कौन है? तो इसका एक ही उत्तर आयेगा,....कोई नहीं! हालांकि, संविधान के नये हिन्दी संस्करण में सेक्युलर का अनुवाद पंथनिरपेक्ष करके इस भूल के परिमार्जन का प्रयास हुआ है। फिर भी, आज की राजनीति में ''धर्मनिरपेक्ष'' शब्द का बोलबाला है।

इस दौर की भारतीय राजनीति में दो शब्द ''सेक्युलर'' और ''कम्युनल'' (साम्प्रदायिक) अधिक सुनने को मिलते हैं। लगभग प्रत्येक राजनीतिक दल स्वयं को सेक्युलर और शेष अन्य दलों को कम्युनल होने का आरोप लगा देते हैं।

मुझे ऐसा लगता है कि प्रारम्भ में ही सेक्युलर का अनुवाद पंथनिरपेक्ष या सम्प्रदाय निरपेक्ष कर दिया जाता तो अनेक आशंकाए जन्म नहीं लेती। सेक्युलर शब्द के अर्थ के बारे में भले ही भिन्न-भिन्न मत रहे हों किन्तु उस मतभिन्नता में इस बात पर एकता थी कि राज्य का स्वरुप असाम्प्रदायिक होना चाहिए। इस प्रश्न पर आज भी एकमत हैं। इसलिए सेक्युलर शब्द के उद्भव पर चर्चा करना समीचीन होगा।

राजनीतिक फलक पर सेक्युलराइजेशन शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम 1648 ई. में तब हुआ जब यूरोप के गिरिजाघरों की सम्पत्ति पर वहां के राजकुमारों का पूर्ण वर्चस्व स्थापित हो गया था। ऐसा निरन्तर 30 वर्षों के युध्द क़े पश्चात सम्भव हो सका था। इस घटना के बाद पूरे यूरोप में गिरिजाघरों की सम्पत्ति को लेकर एक बहस छिड़ गयी थी।

फ्रंसीसी क्रान्ति के पश्चात 2 नवम्बर, 1789 को वहां की नेशनल एसेम्बली में टैरीलैण्ड महोदय के द्वारा की गयी एक घोषणा के अनुसार, गिरिजाघरों की सम्पूर्ण सम्पत्ति का राष्ट्रीयकरण कर लिया गया। 50 वर्ष पश्चात इंग्लैण्ड के रेशनलिस्ट मूवमेण्ट (तर्कवादी/बुद्धिवादी आन्दोलन) के नेता जार्ज जैकब हॉलियोक (1817-1906), जिन्हें निरीश्वरवादी विचारक भी कहा जाता है, ने तत्कालीन परिस्थितियों में अपनी विचारधारा को व्यक्त करने के लिए एक नये शब्द सेकुलरिज्म का प्रचलन किया था।

यदि हम वर्तमान भारतीय राजनीतिक परिदृश्य पर विचार करें तो एक ऐसे शब्द सेकुलर की चर्चा बार-बार होती है जिसका प्रयोग भारतीय संविधान के मूल रुप में अनुच्छेद 25, खण्ड 2 के उपखण्ड (क) में केवल एक बार किया गया है, जिसके अन्तर्गत धर्म की स्वतन्त्रता के अधिकार पर उपबन्ध किया गया है।

आपातकाल के दिनों में तत्कालीन प्रधानमन्त्री श्रीमती इन्दिरा गांधी ने ''42 वाँ संविधान संशोधन अधिनियम 1976'' के द्वारा संविधान की प्रस्तावना में दो शब्द ''सोशलिस्ट'' और ''सेक्युलर'' जोड़ दिया था, लेकिन इनमें से एक महत्वपूर्ण शब्द सेक्युलर को कहीं भी स्पष्ट परिभाषित नहीं किया गया। आज भी यह शब्द अपरिभाषित है। सेक्युलर को धर्मनिरपेक्ष कहना कितना सही है? यदि हम चिन्तन करें तो इसका अर्थ स्वत: स्पष्ट हो जायेगा।

'धर्मसापेक्ष' शब्द का विलोम 'धर्मनिरपेक्ष' है। ये दोनों शब्द दो-दो शब्दों से मिलकर बने हैं। पहला धर्म+सापेक्ष व दूसरा धर्म+निरपेक्ष। पहले शब्द 'धर्म' का अर्थ%- इस शब्द के मूल में ''धृ'' धातु है, जिसका सम्बन्ध धारण करने से है। वेदों में कहा गया है कि, 'धारयते इति धर्म:' अर्थात जो धारण करने योग्य है, वही धर्म है।

दूसरे शब्दों में यह कहा जा सकता है कि जो जिसका वास्तकविक रुप है, उसे बनाए रखने और उस पर बल देने में जो सहायक हो, वही उसका धर्म है। धर्म, वस्तु और व्यक्ति में सदा रहने वाली सहज वृत्ति, उसका स्वभाव, उसकी प्रकृति अथवा गुण को सूचित करता है।

धर्म, कर्तव्य के अर्थ में भी प्रयुक्त होता है। जैसे- व्यक्तियों और समाज के सम्बन्धों को नियमित करने वाली जो चीजें हैं, उनको धर्म कहा जाता है। जहां तक कर्तव्य की बात है तो मातृधर्म, पितृधर्म, पुत्रधर्म, छात्रधर्म, प्रजा धर्म, पड़ोस धर्म आदि। ये सब हमारे कर्तव्य को बताते हैं।

जैसे- माता का कर्तव्य क्या है, पिता का कर्तव्य क्या है, पुत्र का कर्तव्य क्या है, छात्र का कर्तव्य क्या है, राजा का कर्तव्य क्या है, प्रजा का कर्तव्य क्या है, एक पड़ोसी का दूसरे पड़ोसी के प्रति कर्तव्य क्या है, आदि-आदि ? अर्थात सबके कर्तव्य का निरूपण जिससे होता है, वह धर्म है।

दूसरे शब्द ''सापेक्ष'' का अर्थ है- दूसरे पर निर्भर रहने वाला और इसका विलोम है ''निरपेक्ष'' यानि दूसरे पर निर्भर न रहने वाला या अलग, विलग, पक्षविहीन होकर रहना।

अत: हम कह सकते हैं कि धर्म पर निर्भर रहने वाला या धर्म के अनुसार चलने वाला धर्मसापेक्ष है और धर्म पर निर्भर न रहने वाला या इससे पृथक या विलग रहने वाला ''धर्मनिरपेक्ष'' है।

उदाहरण के लिए, सड़क पर बाएं चलने का नियम है। यदि हम दायें चलने लगें तो एक दूसरे को क्रास करना दुर्घटना को निमन्त्रण देना ही है, क्योंकि दाएं चलना स्वाभाविक नहीं है।

दूसरा उदाहरण, यदि रास्ते में कोई पीड़ित या घायल व्यक्ति हमसे मिल जाये, जिसको हमारी सहायता की आवश्कता है। हमारा धर्म भी है और मानवता भी कि हम उसकी यथोचित सहायता करें। इस प्रकार कर्तव्य के रुप में ''धर्म'' हमारे सामने उपस्थित है। यदि हम उसकी सहायता न करके कर्तव्य से विमुख हो जायें अर्थात धर्म से विमुख या धर्मनिरपेक्ष हो जायें, तो उस समय हमारी मानवता मर जायेगी। यानि धर्म से निरपेक्ष होना न तो मानव के हित में है और न ही मानवता के हित में।

अब प्रश्न उठता है कि इस सृष्टि में धर्म से निरपेक्ष होकर कौन चल सकता है? भारत और भारत के लोग तो कदापि नहीं। क्योंकि श्रीमद्भगवद्गीता के चौथे अध्याय के आठवें श्लोक में भगवान श्रीकृष्ण, अपने अवतार का हेतु बताते हुए कहते हैं कि, ''जब-जब देश में अधर्म का बोलबाला और धर्म अथवा सुव्यवस्था का नाश होने लगता है, तब-तब मैं अवतार लेता हूं और साधु सज्जनों की रक्षा तथा दुष्टों का विनाश कर, धर्म की स्थापना करता हूं।''

कुछ इसी प्रकार का वाक्य तुलसीदास जी ने रामचरितमानस के बालकाण्ड में वर्णन किया है-

जब-जब होई धरम के हानी, बाढ़हिं असुर, अधम अभिमानी॥
करहिं अनीति जाइ नहिं बरनी, सीदहिं विप्र धेनु सुर धरनी॥
तब-तब प्रभु धरि विविध सरीरा, हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा॥

उपर्यक्त आधार पर कहा जा सकता कि जिस धर्म की स्थापना के लिए स्वयं साक्षात् नारायण और सभी सत्पुरुष समाज सतत् प्रयत्नशील रहते हैं, उससे निरपेक्ष होकर कौन चल सकता है।

भारत के मा. सर्वोच्च न्यायालय की त्रि-सदस्यीय पीठ ने भी Ms. Aruna Roy & Others Vs Union of India & Others के केस के सन्दर्भ में 12 सितम्बर, 2002 के अपने फैसले में सेकुलरिज्म को विधिवत परिभाषित किया है-

According to Justice Dharmadhikari, “The real meaning of Secularism in the language of Gandhi is ‘Sarva-Dharma-Sambhav’ meaning equal treatment & respect for all religions, but we have misunderstood the meaning of secularism as ‘Sarva-Dharma-Sam-Abhav ‘ meaning negation of all religions.”

प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद के अनुसार, ''सेकुलर का वास्तविक अर्थ यह है कि इस देश में सभी लोग अपनी इच्छा की आस्था का पालन अथवा प्रचार करने के लिए स्वतन्त्र हैं, तथा हम सभी धर्मों की सफलता की कामना करते हैं और उन्हें बिना बाधा के अपने ढंग से ही विकसित होने देना चाहते हैं। ''

अत: सेकुलर शब्द का हिन्दी अनुवाद धर्मनिरपेक्ष करना गलत है। सही अनुवाद होगा पंथनिरपेक्ष, मजहबनिरपेक्ष, सम्प्रदाय निरपेक्ष या सर्वधर्म समभाव, और यह अवधारणा भी राज्य के सन्दर्भ में है। भारतीय संस्कृति के सन्दर्भ में अपने पंथ की निरपेक्षता भी अनुचित है। भारतीय दर्शन पंथ से निरपेक्ष होने की बात सोच भी नहीं सकता।

भारतीयता का भाव ''सर्वधर्म समादर भाव'' है। किन्तु ''धर्मनिरपेक्ष'' तो अधार्मिक और पतित ही कहा जायेगा।

कोई राज्य धर्म से निरपेक्ष हो कर नहीं चल सकता क्योंकि नागरिकों के प्रति राज्य के कुछ कर्तव्य होते हैं। धर्मसापेक्ष राज्य ही पंथनिरपेक्ष हो सकता है। धर्मनिरपेक्ष राज्य अर्थात कर्तव्यपरायणता से विमुख राज्य, पंथनिरपेक्षता का पालन कभी नहीं कर सकता। अत: हम कह सकते हैं कि सेकुलरवाद की भारतीय परिकल्पना अधिक सकारात्मक है, साथ ही यूरोपीय धर्मेत्तर सेकुलरवाद के सिध्दान्त से भिन्न भी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...

समर्थक

लोकप्रिय पोस्ट

Follow by Email

ब्‍लॉग की दुनिया

NARAD:Hindi Blog Aggregator blogvani चिट्ठाजगत Hindi Blogs. Com - हिन्दी चिट्ठों की जीवनधारा Submit

यह ब्लॉग खोजें

Blog Archives